कई देशों ने उड़ानें बंद कर दीं , हम देरी क्यों कर रहे हैं? दिल्ली के CM ने PM मोदी से किया सवाल

0 982

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को लेकर दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने एक बाद फिर केंद्र सरकार से प्रभावित देशों से आने वाली उड़ानों पर रोक लगाने की अपील की है. मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि कई देशों ने ऑमिक्रान (corona omicron variant) प्रभावित देशों से आने वाली उड़ानें बंद कर दी हैं. हम देरी क्यों कर रहे हैं? पहली वेव में भी हमने विदेशी उड़ानें रोकने में देरी कर दी थी.अधिकतर विदेशी उड़ानें दिल्ली में आती हैं, दिल्ली सबसे ज़्यादा प्रभावित होती है. PM साहिब कृपया उड़ानें तुरंत बंद करें.

इससे पहले भी दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को चिट्टी लिखकर आग्रह किया है कि उन देशों से उड़ानें बंद कर दी जाएं, जो नए संस्करण (COVID-19) से प्रभावित हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बड़ी मुश्किल से हमारा देश कोरोना से उबर पाया है. हमें इस नए संस्करण को भारत में प्रवेश करने से रोकने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए
इससे पहले यानी बीती 26 नवंबर को सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर नए COVID वेरिएंट के खतरे को लेकर एक्सपर्ट्स से सुझाव देने को कहा था. साथ ही सोमवार को DDMA द्वारा प्रेजेंटेशन देने अनुरोध किया. इसके साथ ही क्या-क्या कदम उठाएं जाए, इसका सुझाव भी मांगा.

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट मिलने के बाद सभी सरकारी विभागों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान लोगों से अनावश्यक रूप से एक जगह जुटने से बचने की अपील की है. सिसोदिया ने कहा कि सरकारी विभागों विशेषकर स्वास्थ्य विभाग को कोरोना के नए रूप के किसी भी संभावित खतरे से निपटने के लिए बुनियादी ढांचे और अन्य आवश्यक सुविधाओं को फिर से बढ़ाने का निर्देश दिया गया है.

दरअसल, बीते दिन यानी 26 नवंबर को केंद्र ने कहा कि ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजराइल समेत यूरोप के कई देशों को ‘एट रिस्क’ कैटेगरी में रखा गया है. एट रिस्क श्रेणी के देशों से आ रहे यात्रियों की कोरोना आरटीपीसीआर रिपोर्ट एयरपोर्ट पर कराई जाए. इस नियम के तहत जेनेटरिंग्स डायग्नोस्टिक सेंटर ‘जोखिम वाले’ देशों से आने वाले सभी यात्रियों की सख्ती से जांच की. इसमें कोई भी यात्री कोरोना के नए वेरिएंट से संक्रमित नहीं मिला.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (World Health Organization) ने कोरोना के नए रूप B.1.1529 को ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ घोषित किया है. इतना ही नहीं WHO ने द अफ्रीका के बोत्सवाना में सबसे पहले मिले इस वेरिएंट का नाम ओमिक्रॉन (Omicron) रखा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.