दोस्त के साथ ‘भूतिया घर’ में भूत देखने पहुंचा था लड़का हो गई मौत!

0 230

मलेशिया (Malaysia) में एक 16 वर्षीय लड़का अपने करीबी दोस्त के साथ एक ‘भूतिया घर’ (Haunted House) में घूमने गया था, जहां उसकी दिल का दौरा पड़ने से मौत (Boy heart attack in Haunted House) हो गई. मृतक का नाम उजागर नहीं किया गया है. बताया गया है कि मलेशिया के पहांग राज्य (Pahang) में बेंटोंग शहर में एक भूतिया घर स्थित है, जो लोकप्रिय टूरिस्ट डेस्टिनेशन है. एक दिसंबर को लड़का अपने दोस्त के साथ यहां घूमने पहुंचा था. लेकिन डर के मारे उसे दिल का दौरा पड़ गया और उसकी मौत हो गई.

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृतक एक करीबी दोस्त के परिवार के साथ छुट्टी मनाने आया था. इस दौरान उसने कथित रूप से भूतिया घर में जाने का फैसला किया. घर के अंदर, युवक कथित तौर पर गिर गया और बेहोश हो गया. वह लड़का डर के मारे फर्श पर गिर गया और उसका चेहरा पीला पड़ गया. इस दौरान उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और लोगों ने उसे सांस देने की कोशिश की. लेकिन वह होश में नहीं आ पाया. सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में देखा जा सकता है कि अन्य टूरिस्ट उसे होश में लाने की कोशिश कर रहे हैं.

लड़के को तुरंत घर के एक खुले एरिया में ले जाया गया, ताकि वह सांस ले सके. दूसरी ओर, आपातकालीन विभाग को घटना की जानकारी दी गई. लेकिन इतने प्रयासों के बाद भी किशोर को बचाया नहीं जा सका. हालांकि, बाद में इस बात का खुलासा हुआ कि मृतक के दिल में छेद था. अभी तक ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि मृतक या उसका परिवार मौत से पहले इस बारे में जानता था या नहीं. बेंटोंग जिले के प्रवक्ता जैहम मोहम्मद कहार ने कहा कि लड़के की मौत को अचानक हुई मौत के रूप में सूचीबद्ध किया गया है.

पुलिस के अनुसार, उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए मलेशियाई राज्य मलक्का भेजा गया, जिसमें पता चला कि पीड़ित के दिल में छेद था. ओहियो स्थित चिकित्सा केंद्र क्लीवलैंड क्लिनिक ने कहा कि अचानक डर लगने की वजह से दिल का दौरा पड़ने का खतरा रहता है. ऐसा खासतौर पर उन लोगों के साथ होता है, जिन्हें पहले से ही दिल की समस्या हो. इस घटना को ताकोत्सुबो कार्डियोमायोपैथी कहा जाता है. इसकी वजह से दिल का मुख्य पंपिंग चैंबर कमजोर हो जाता है, जो आमतौर पर भावनात्मक या शारीरिक तनाव की वजह से होता है.

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार ये बीमारी पुरुषों की तुलना में महिलाओं को काफी अधिक प्रभावित करती है. यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग मेडिकल सेंटर के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ मार्क एस्टेस ने कहा, पहले से मौजूद जोखिम वाले कारकों या पहले से मौजूद हृदय रोग वाले लोगों के लिए आप ऐसे वातावरण में काम करना चाहते हैं, जहां डर लगने का या इस तरह से तनाव बढ़ने का खतरा कम हो. लड़के के परिवार ने कहा कि वे उसे बुकित बारू इस्लामिक कब्रिस्तान में दफनाएंगे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.