उज्बेक महिलाओं के शेल्टर होम से लापता होने को लेकर दिल्ली सरकार, पुलिस प्रमुख को नोटिस

0 46

नई दिल्ली । राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने अगस्त में दिल्ली पुलिस द्वारा यौन तस्करी रैकेट के चंगुल से छुड़ाई गईं सात उज्बेक महिलाओं में से पांच के बारे में मीडिया में आई खबरों पर स्वत: संज्ञान लिया है। ये महिलाएं पिछले सप्ताह द्वारका के एक शेल्टर होम से लापता हो गई थीं। एनएचआरसी ने दिल्ली के मुख्य सचिव और पुलिस आयुक्त को इस संबंध में नोटिस जारी किया है।

कथित तौर पर महिलाओं को नेपाल के रास्ते भारत लाया गया और जबरन सेक्स वर्क के लिए मजबूर किया गया। अगस्त में उनमें से सात को दिल्ली पुलिस ने उज्बेकिस्तान दूतावास और एक एनजीओ की मदद से बचाया था।

एक अधिकारी के अनुसार, आयोग ने देखा है कि राज्य विदेशी नागरिकों के जीवन की रक्षा करने के लिए बाध्य है। एक अधिकारी ने कहा, घटना की गंभीरता और अजीबोगरीब तथ्यों और परिस्थितियों को देखते हुए, जैसा कि मीडिया में रिपोर्ट किया गया है, आयोग ने दिल्ली के मुख्य सचिव को नोटिस जारी कर आश्रय गृह के खिलाफ की गई कार्रवाई रिपोर्ट के साथ मामले में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

अधिकारी ने कहा, “यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि लापता उज्बेक महिलाओं का स्वास्थ्य ठीक रहे और वे सुरक्षित रहें।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.