कोरोना वैक्सीनेशन का टारगेट पूरा नहीं होने पर DM साहब की धमकी, बोले- एक दिन की भी हुई चूक तो फांसी पर टांग दूंगा

0 45

कोरोना के नए वेरियंट ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच मध्य प्रदेश में सावधानी बरती जा रही है. इस के लिए कोरोना वैक्सिनेशन पर खासा जोर दिया जा रहा है (Covid Vaccination in MP) . इस बीच कोरोना वैक्सीनेशन का टारगेट पूरा न होने पर ग्वालियर के जिलाधिकारी (Gwalior DM) इस कदर नाराज हुए कि उन्होंने अधिकारियों को फांसी पर लटकाने की धमकी दे डाली (Collector Threatens Officials for delay in vaccination target). डीएम ने कहा कि अगर कोरोना वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा करने में 1 दिन की चूक हुई, तो आप लोगों को फांसी पर टांग दूंगा.

दरअसल कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह (DM Kaushalendra Vikram Singh) मंगलवार को डबरा तहसील के भितरवार में अधिकारियों की बैठक ले रहे थे. इस दौरान उन्होनें अधिकारियों से टीकाकरण की जानकारी ली. जब उन्हें पता चला कि 18 हज़ार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य पूरा नहीं हुआ है तो वह नाराज हो गए. बैठक में अधिकारियों को फटकार लगाते हुए डीएम कौशलेंद्र ने कहा कि अगर कोरोना वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा करने में 1 दिन की चूक हुई, तो आप लोगों को फांसी पर टांग दूंगा.

डीएम ने आगे कहा कि एक भी टीका छूटना नहीं चाहिए. इसके लिए खेत में जाकर लगाओ, घर जाकर लगाओ, नहीं लगवा रहा तो घर पर बैठे रहो, हाथ जोड़कर प्रार्थना करो, पैरों में गिर जाओ. जिसके बाद अब घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वहीं कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच जिला प्रशासन अब हर वार्ड में संजीवनी क्लीनिक खोलने का प्लान तैयार कर रहा है.

ग्वालियर शहर के 66 वार्डो में यह संजीवनी क्लीनिक खोले जाऐंगे. इस संजीवनी क्लीनिक के शुरुआती दौर में लोगों के सैंपल कलेक्ट किए जाएंगे, उनको डिटेक्ट करने की कोशिश की जाएगी. जिससे कोरोना की चैन को ब्रेक किया जा सके. इसके साथ ही सामान्य स्वास्थ्य सुविधाओं से जुड़ी आवश्यक सेवाओं संजीवनी क्लीनिक के माध्यम से मुहैया कराई जाएंगी. इसके लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.