केवल तंबाकू से ही नहीं, मुंह गंदा रखने से भी हो सकता है कैंसर का खतरा

0 55

नई दिल्ली : शरीर के पूर्ण स्वास्थ्य की तरह ही ओरल हेल्थ यानी कि मौखिक स्वास्थ्य की ओर भी ध्यान देना जरूरी है. ओरल हेल्थ के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 20 मार्च को वर्ल्ड ओरल हेल्थ डे मनाया जाता है. इसके जरिए लोगों को नियमित ब्रशिंग, फ्लॉसिंग और दांतों के टेस्ट सहित ओरल हाइजीन को अच्छा रखने के लिए सभी जानकारी दी जाती है. डॉक्टरों का भी कहना है कि शरीर की अच्छी सेहत के लिए ओरल हेल्थ का भी अच्छा रहना जरूरी है. अगर ओरल हेल्थ का ध्यान न रखें तो इससे कई तरह की बीमारियों से लेकर कैंसर होने का भी खतरा रहता है.

ऐसे कुछ केस भी सामने आते हैं जहां खराब ओरल हेल्थ की वजह से लोगों को मुंह का कैंसर हो जाता है. हालांकि अधिकतर लोगों को इस बारे में जानकारी नहीं होती है. इसलिए डॉक्टर सलाह देते हैं कि दांतों, मसूड़ों की सेहत का ध्यान रखना भी जरूरी है. इस मामले में की गई लापरवाही सेहत को गंभीर रूप से बिगाड़ सकती है.

दिल्ली के राजीव गांधी कैंसर हॉस्पिटल में डॉ विनीत तलवार बताते हैं कि आमतौर पर लोग मानते हैं कि मुंंह का कैंसर केवल गुटखा या पान तंबाकू खाने से होता है, लेकिन ऐसा नहीं है, जो लोग अपनी ओरल हेल्थ यानी की दातों को साफ या मसूड़ों की सेहत का ध्यान नहीं रखते हैं उनको भी मुंह के कैंसर का रिस्क रहता है. ऐसे कई केस भी सामने आते हैं. ऐसे में लोगों को सलाह है कि वह अपने मुंह की सेहत का ध्यान जरूर रखें.

फोर्टिस हॉस्पिटल में कंसलटेंट डेंटल साइंसेज डॉ निकिता बताती हैं कि ओरल हेल्थ हमारी ओवरआल हेल्थ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. ओरल हेल्थ पर ध्यान न देने से मसूड़ों की बीमारी से लेकर कई तरह की खतरनाक डिजीज का रिस्क रहता है. ये हार्ट डिजीज, डायबिटीज का भी कारण बन सकती है. इस वजह से ओरल इन्फेक्शन , विशेष रूप से पेरियोडोंटाइटिस, एंडोकार्टिटिस, हृदय रोग, बैक्टीरियल निमोनिया, गर्भावस्था और मुंह के कैंसर तक का रिस्क रहता है. कुछ मामलों में ओरल हेल्थ के बिगड़ने सेऑस्टियोपोरोसिस, एचआईवी एड्स का भी रिस्क हो सकता है.

हर छह महीने में एक बार दांतों की नियमित जांच कराएं. रोजाना कम से कम 2 मिनट के लिए ब्रश जरूर करें. अगर दातों में दर्द या मसूड़ों में कोई इंफेक्शन हो रहा है तो इसको नजरअंदाज न करें. हर तीन महीने में अपना ब्रश बदलें, अधिक मीठे फूड्स का सेवन न करें. तंबाकू का सेवन और अत्यधिक शराब न पिएं.

मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ में नियर कंसलटेंट डेंटल साइंसेज विभाग कि डॉ रागिनी सहगल सेठी बताती हैं कि लोगों को हर दिन ब्रश करने के लिए दो मिनट का समय जरूर निकालना चाहिए. अगर ओरल हेल्थ का ध्यान नहीं रखते हैं तो मुंह और दांतों में बैक्टीरिया दांतों में सड़न और मसूड़ों की बीमारी का कारण बन सकते हैं. दांत खराब होने से वजन बढ़ने गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं भी हो सकती हैं.

ये गलतियां न करें

अपना ब्रश हर 3 महीने में जरूर बदलें
2 मिनट से कम ब्रश बिलकुल न करें
ब्रश करते समय जुबान भी साफ करें
रात को मीठी चीजों को खाने से परहेज करें

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.