राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद देश को संबोधित किया, भारत को बताया एकता का प्रतीक

0 336

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मंगलवार को गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर अपने संबोधन में कहा कि भारत की विविधता और लोकतंत्र की जिवंत मिसाल पूरी दुनिया में दी जाती है राष्ट्रपति ने स्वतंत्रता सेनानी के योगदानों को याद करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की देश को आजादी और गौरव दिलाने की उत्कृष्ट इच्छा देशवासियों को प्रेरणा मिलती है

 

राष्ट्रपति ने कहा, ‘दो दिन पहले, 23 जनवरी को हम सभी देशवासियों ने ‘जय-हिन्द’ का उद्घोष करने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जयंती पर उनका पुण्य स्मरण किया है. स्वाधीनता के लिए उनकी ललक और भारत को गौरवशाली बनाने की उनकी महत्वाकांक्षा हम सबके लिए प्रेरणा का स्रोत है. हम अत्यंत सौभाग्यशाली हैं कि हमारे संविधान
का निर्माण करने वाली सभा में उस दौर की सर्वश्रेष्ठ विभूतियों का प्रतिनिधित्व था. वे लोग हमारे महान स्वाधीनता संग्राम के प्रमुख ध्वज-वाहक थे.’

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, गणतन्त्र दिवस का ये दिन उन महानायकों को याद करने का अवसर भी है, जिन्होंने स्वराज के सपने को साकार करने के लिए अतुलनीय साहस का परिचय दिया और उसके लिए देशवासियों में संघर्ष करते रहने को कहा इस मौके पर राष्ट्रपति ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को याद किया. उन्होंने कहा, दो दिन पहले, 23 जनवरी को हम सभी देशवासियों ने ‘जय-हिन्द’ का उद्घोष करने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जयंती पर उनका पुण्य स्मरण किया है. स्वाधीनता के लिए उनकी ललक और भारत को गौरवशाली बनाने की उनकी महत्वाकांक्षा हम सबके लिए प्रेरणा का स्रोत है

महात्मा गांधी के शब्दों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि गांधी जी हमेशा से मानते थे कि व्यक्ति अपने अंदर देखे और एक बेहतर इंसान बनने की कोशिश करे

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.