सरेंडर करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया फरार अमृतपाल सिंह के चाचा और ड्राइवर को

0 257

चंडीगढ़ : ‘वारिस पंजाब दे’ के प्रमुख फरार अमृतपाल सिंह के चाचा हरजीत सिंह और उनके ड्राइवर हरप्रीत सिंह को सरेंडर करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया । पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) स्वप्न शर्मा ने सोमवार को यह जानकारी दी। उधर, पंजाब पुलिस ने तीसरे दिन भी सोमवार को ‘भगोड़े अमृतपाल सिंह के खिलाफ अपनी कार्रवाई जारी रखी।

पुलिस ने अमृतपाल के सहयोगियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया। अवैध हथियार मामले में उसके और उसके सहयोगियों के खिलाफ एक नई प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस ने राज्य में शांति और कानून व्यवस्था को भंग करने का प्रयास करने वाले व्यक्तियों की प्रतिबंधात्मक गिरफ्तारी की। खालिस्तानी विचारधारा के वित्त को संभालने वाले दलजीत सिंह कलसी को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया। पिछले महीने अमृतसर के अजनाला इलाके में एक थाने का घेराव करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए अमृतपाल के सात साथियों को ब्यास की एक अदालत ने 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। फरार कट्टरपंथी नेता के चार सहयोगियों को सुरक्षा कारणों से असम के डिब्रूगढ़ ले जाया गया।

पंजाब पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों (एसएसपी) और पुलिस आयुक्तों (सीपी) के नेतृत्व में जिला पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा फ्लैग मार्च किया गया है, उन्होंने कहा कि सभी जिलों में शांति समिति की बैठकें भी आयोजित की गई हैं और राज्य में फिलहाल पूरी तरह से शांति और सद्भाव है। ‘वारिस पंजाब दे’ तत्वों और राज्य में शांति और सद्भाव को भंग करने का प्रयास करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ चल रहे अभियानों के दौरान, रविवार को पंजाब से 34 और गिरफ्तारियां की गईं, इस संबंध में गिरफ्तार लोगों की कुल संख्या 112 हो गई है।

प्रवक्ता ने बताया कि तलाशी अभियान के दौरान जालंधर जिले के सलीना गांव से एक लावारिस इसुजू वाहन बरामद किया गया है। शनिवार को जब पुलिस अमृतपाल का पीछा कर रही थी, तब अमृतपाल ने इस वाहन का इस्तेमाल किया था। उन्होंने बताया कि लावारिस वाहन से एक .315 बोर राइफल, 57 कारतूस, एक तलवार और एक वायरलेस सेट बरामद किया गया है। उन्होंने कहा कि वाहन एसबीएस नगर के अनोखरवाल गांव के मनप्रीत सिंह का है, जिसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

प्रवक्ता ने कहा कि अगर कोई फर्जी समाचार, अफवाहें या अभद्र भाषा फैलाता पाया गया तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी नागरिकों, मीडियाकर्मियों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मध्यस्थों से अनुरोध है कि वे जिम्मेदार तरीके से कार्य करें और उनके द्वारा विभिन्न सोशल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा की जा रही सामग्री की सत्यता की जांच करें। प्रवक्ता ने कहा कि राज्य में शांति और सद्भाव को भंग करने का प्रयास करने वाले सभी शरारती तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा।

पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने रविवार को जालंधर के पुलिस आयुक्त और अन्य अधिकारियों को अमृतपाल सिंह को पेश करने के लिए निर्देश जारी करने की मांग वाली एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर पंजाब सरकार को नोटिस जारी किया। न्यायमूर्ति एन.एस. शेखावत ने मामले की अगली सुनवाई मंगलवार को तय की। याचिकाकर्ता इमान सिंह खारा ने आरोप लगाया कि ‘वारिस पंजाब दे’ के प्रमुख अमृतपाल सिंह को पुलिस आयुक्त और अन्य अधिकारियों ने अवैध रूप से हिरासत में लिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.