वैक्सीन की 12 डोज लेने वाले ब्रह्मदेव मंडल ने दी आत्महत्या की धमकी

0 328

वैक्सीन की 12 डोज लेने वाले ब्रह्मदेव मंडल (Brahmadev Mandal) ने अब आत्महत्या करने की धमकी दी है. बिहार के मधेपुरा के रहने वाले ब्रह्मदेव मंडल पर जब कानूनी कार्रवाई होने लगी तो उन्होंने आत्महत्या करने की धमकी दी है. ब्रह्मदेव मंडल ने कोरोना की 12 दफे वैक्सीन लेने का दावा किया है. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने उनके खिलाफ FIR दर्ज कराया है. एफआईआर होने के बाद वो डरे-सहमे हैं. स्वास्थ्य विभाग ने उन पर धोखधड़ी और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है. FIR दर्ज होने के बाद उनको गिरफ्तार करने पुलिस पहंची थी. लेकिन वो घर पर नहीं मिले. पुलिस के डर से वह छिपते फिर रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अब उन्होंने पुलिस की दबिश और कानूनी कार्रवाई के डर से आत्महत्या करने की धमकी दी है.

ब्रहमदेव मंडल ने वीडियो जारी कर कहा है कि स्वास्थ विभाग के अधिकारियों ने खुद को बचाने के लिए उनके ऊपर गलत केस दर्ज करवाया है. वो हमें परेशान कर रहे हैं. उनके घर पुलिस के पहुंचने के बाद उनका पूरा परिवार डरा सहमा है. उन्होंने कहा कि अगर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होती है तो वह आत्महत्या कर लेंगे. इसके साथ ही उन्होंने इस पूरे प्रकरण की शिकायत प्रधानमंत्री से भी करने की बात कही. ब्रहमदेव मंडल ने एक बार फिर कहा है कि उनको 12-12 टीका लेने से बहुत फायदा हुआ है. इससे पहले वह बीमार रहते थे लेकिन अब पूरी तरह स्वस्थ्य हैं.

उनकी पत्नी ने भी उनके दावे को सही ठहराया है और कहा है कि टीका लेने से पहले वह काफी बीमार थे . चल फिर नहीं सकते थे. दर्द का इलाज कई जगह कराया था. लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. जब इन्होंने टीका लिया तो पूरी तरह ठीक हो गए हैं. ब्रहमदेव मंडल की पत्नी ने आरोप लगाया है कि पुलिस उनके साथ दुर्दांत अपराधियों जैसा व्यवहार कर रही है.

दरअसल मधेपुरा के रहने वाले 84 वर्षीय ब्रह्मदेव मंडल ने दावा किया था उन्होंने अलग-अलग जगहों पर कोरोना की वैक्सीन के 12 डोज लिए है. इसके दावे में उन्होंने तारीख और जगहों का भी उल्लेख किया है. इसके बाद सरकार पर जब सवाल उठने लगा कि एक व्यक्ति कैसे 12 बार टीका लगवा सकता है. जबकि उसका रजिस्ट्रेशन आधार कार्ड के जरिए होता है. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. ब्रह्मदेव मंडल पर बेइमानी से बहुमूल्य वस्तु को नष्ट करना और सरकारी लोक सेवक द्वारा दिए गए निर्देश के उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया. जिसके बाद कानूनी कार्रवाई के डर से उन्होंने अब आत्महत्या करने की धमकी दी है.
मामले में मधेपूरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव ने कहा कि गलती कोई करे और सजा कोई भुगते यह गलत है. मामले में सरासर गलती स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की है. जब आधारकार्ड के आधार पर वैक्सीन लेने के लिए रजिस्ट्रेशन होता है तो 12 बार रजिस्ट्रेशन कैसे हो गया. उन्होंने कहा कि एक 85 साल के बुजुर्ग को नाहक ही परेशान किया जा रहा है. वो अभी मधेपुरा में ही हैं और इस मामले में जो मदद हो सकेगा वह करेंगे

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.