रवीना टंडन ने किया खुलासा, साउथ और बॉलीवुड इंडस्ट्री के बीच ये है सबसे बड़ा फर्क

0 32

मुंबई : बॉलीवुड की ‘कूल गर्ल’ एक्ट्रेस रवीना टंडन आज भी अपनी खूबसूरती से लोगों को घायल कर देती हैं। 90 के दशक में रवीना का जादू आज भी कम नहीं हुआ है। लंबे ब्रेक के बाद रवीना ने एक बार फिर साउथ फिल्मों और ओटीटी (OTT) के जरिए फिल्म इंडस्ट्री में वापसी की है। रवीना बॉलीवुड के साथ साउथ में काम किया। हाल ही में एक्ट्रेस ने साउथ और बॉलीवुड इंडस्ट्री के बीच बड़ा अंतर बताया है।

हाल ही में रवीना टंडन ने साउथ इंडस्ट्री के बारे में कुछ खास बातें बताईं। उन्होंने कहा कि साउथ इंडस्ट्री में छोटी सी टीम में बहुत अच्छा काम हो जाता है, जबकि बॉलीवुड में उसी काम के लिए ज्यादा लोगों की जरूरत होती है। इस मौके पर उन्होंने फिल्म ‘तकदीरवाला” (1995) की शूटिंग के दौरान की एक याद शेयर की।उन्होंने कहा कि लगभग आधे गाने विदेश में शूट किए गए। रवीना ने कहा कि साउथ की कम बजट की फिल्मों में मुझे किसी भी तरह की कोई कमी महसूस नहीं हुई। यह देखकर बहुत प्रभावित हुईं कि साउथ इंडस्ट्रीज कम बजट में भी कितना अच्छा काम करती हैं। हमने केवल नौ लोगों की टीम के साथ मॉरीशस में फिल्म के पांच गाने शूट किए।

आप उन गानों की क्वालिटी देख सकते हैं। रवीना टंडन ने मुंबई और विदेशों में हिंदी फिल्मों की शूटिंग पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि जब हम शूटिंग के लिए स्विट्जरलैंड या अन्य जगहों पर जाते थे। तब हमारे साथ दो सौ लोगों की टीम हुआ करती थी। मैं कहती थी कि जब हम 10 लोगों के साथ ये सब काम कर सकते हैं तो इतने लोगों की क्या जरूरत है।’

एक्ट्रेस के वर्कफ्रंट की बात करें तो रवीना टंडन हाल ही में सीरीज ”कर्मा कोलिग” में नजर आई थीं। इससे पहले वह ”केजीएफ चैप्टर 2” में नजर आई थीं, जिसमें उन्होंने यश और संजय दत्त के साथ काम किया था। फैंस इस फ्रेंचाइजी की तीसरी फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अब रवीना टंडन ”वेलकम टू द जंगल” में नजर आएंगी। यह एक मल्टीस्टारर फिल्म है, जिसमें अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी, श्रेयस तलपड़े, दिशा पटानी और कई अन्य लोग प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.