ब्लड शुगर के लिए ‘रामबाण’ है यह ‘टाइमपास’, आजमाएं तो मिलेगा दोहरा मजा

0 48

नई दिल्ली। अधिकतर लोगों को मूंगफली खाना पसंद होता है। तभी तो ट्रेन हो या बस, लोग बात करते-करते आराम से मूंगफली खाते हुए सफर का मजा लेते हैं। इसी वजह से मूंगफली को ‘टाइमपास‘ भी कहा जाता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि मूंगफली सिर्फ स्वाद में ही लाजवाब नहीं होती बल्कि यह सेहत के लिए भी लाभकारी होती है। इसमें प्रोटीन, विटामिन और फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। डायबिटीज के मरीजों के लिए इसे बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। इसमें मौजूद मैंगनीज खून में कैल्शियम के अवशोषण, फैट और कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म और शर्करा यानी शुगर के स्तर को संतुलित रखने में मदद करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, नियमित रूप से मूंगफली का सेवन डायबिटीज के जोखिम को काफी हद तक कम कर सकता है। इसलिए रोजाना 10 से 20 ग्राम मूंगफली को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। आइए जानते हैं इसके अन्य फायदों के बारे में।

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि नाश्ते में मूंगफली या पीनट बटर खाने से भूख में कमी आ सकती है और दिनभर ब्लड शुगर नियंत्रित रहता है। इसके अलावा मूंगफली में पाया जाने वाला मैग्नीशियम रक्त ‘शर्करा के स्तर को बनाए रखता है।

डायटिशियन ने बताया, मूंगफली में वो सभी पोषक तत्व मौजूद हैं, जो अन्य सभी नट्स जैसे अखरोट और बादाम में होते हैं। मूंगफली अन्य नट्स की तुलना में सस्ती होती है। इसके अलावा यह एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइबर, प्रोटीन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, कैल्शियम और अन्य पोषक त्तवों से भरपूर है। मूंगफली न केवल डायबिटीज वाले लोगों के लिए बल्कि दिल से जुड़ी समस्याओं, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और सूजन से पीड़ित लोगों के लिए भी असरदार होती है।

ब्लड शुगर को कंट्रोल करें

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड फूड एंड बेवरेज की डायटिशियन ज्योति खनिजोह ने बताया कि मूंगफली के पौष्टिक गुण टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों को फायदा पहुंचाते हैं। मूंगफली का जीआई वैल्यू 14 होता है, जो इसे लो जीआई फूड बनाता है।

इसलिए, मधुमेह रोगियों के लिए मूंगफली खाना सुरक्षित है। यह पूरे दिन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। मूंगफली में पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम होता है, इसलिए यह रक्त शर्करा को कम करने के लिए अच्छा विकल्प है। बता दें कि लगभग 28 मूंगफली में 12 प्रतिशत मैग्नीशियम होता है। जर्नल ऑफ इंटरनल मेडिसिन की एक रिपोर्ट के अनुसार, मैग्नीशियम ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है।

हृदय रोग के जोखिम को कम करें

अमेरिकन कॉलेज ऑफ न्यूट्रिशन के जर्नल के एक रिसर्च पेपर से पता चला है कि मूंगफली खाने से दिल की बीमारी का खतरा कम होता है, जो मधुमेह की एक सामान्य जटिलता है। अपने आहार में नट्स शामिल करने से हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं कनी पड़ती।

इस तरह से खाएं मूंगफली

मूंगफली स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी है। इसे खाने का सबसे अच्छा तरीका है बिना नमक और चीनी के खाना। आप चाहें तो पीनट बटर के रूप में या फिर सलाद में मिलाकर भी खा सकते हैं। मधुमेह के रोगियों के लिए दिन में एक मुठ्ठी मूंगफली का सेवन पर्याप्त है। हालांकि, इसे ज्यादा मात्रा में खाने से बचें। इसकी जरूरत से ज्यादा मात्रा कब्ज और वजन बढ़ा सकती है। डायबिटीज रोगी के लिए मूंगफली कम खर्चीला विकल्प है। मूंगफली को कम मात्रा में और शुद्ध रूप में ही खाने से फायदा होगा।

गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाती है

विशेषज्ञ कहते हैं कि मूंगफली में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाए जाते हैं, जो खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करके गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं। दरअसल, गुड कोलेस्ट्रॉल ही हमारे दिल की सेहत का ख्याल रखता है, इसलिए हमें भी इसके बारे में सोचना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.