मुलायम के विचारों को घर घर पहुंचाने का समाजवादियों ने लिया संकल्प

0 25

इटावा: समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव की जयंती मंगलवार को यहां ‘धरती पुत्र’ दिवस के रूप में मनाई गई। सैफई महोत्सव पंडाल में आयोजित समारोह में समाजवादियों ने श्री मुलायम सिंह यादव (नेताजी) के विचारों को गांव गांव घर घर तक पहुंचाने की कसम खायी। इस मौके पर सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा“हमारे बहुत साथियों ने नेताजी के साथ रहकर जीवन संघर्ष देखा है। हम लोग जिस पांडाल के नीचे बैठे हैं, वह नेता जी की देन है। मुझे याद है जब सैफई महोत्सव का आयोजन हो रहा था। उस समय नेताजी ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन का फैसला लिया था। उस समय तेज बारिश होने के कारण पूरा पंडाल ढह गया था। उसके बाद नेताजी ने कहा था कि अगली बार कार्यक्रम होगा तब तक भव्य पंडाल का निर्माण कार्य होना चाहिए।”

यादव ने कहा “रक्षा मंत्री के पद पर मुलायम ने शहीद हुए जवानों के शव उनके घर तक पहुंचाने का फैसला लिया था। आज पूरे सम्मान के साथ शहीद का शव गांव तक पहुंच रहा है । आज पार्टी के अंदर आप और हम जो काम कर रहे हैं, वह नेता जी की देन है। आज हम लोग संकल्प लें कि नेता जी ने जो रास्ता समाजवाद का दिखाया , उस रास्ते पर चलते हुये समाजवादी आंदोलन को और मजबूत करें। सैफई महोत्सव को नेता जी ने आगे बढ़ाया था आने वाले समय में हम लोग भी सैफई महोत्सव को आगे बढ़ाएंगे।”

पार्टी के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव ने कहा “ नेताजी ने सब्जी बेचने वालों को चार चार बार सांसद विधायक बनाया। नेता जी ने हम सब लोगों को सम्मान के साथ जीना सिखाया है। नेता जी को सबसे बड़ी श्रद्धांजलि यह होगी कि उनके विचार उनकी पार्टी को सहयोगियों को जितनी ताकत आप लोग दे सके आप अपनी ताकत दें और पार्टी को मजबूत करे।”

शिवपाल सिंह यादव ने कहा “ नेताजी के अधूरे सपने पूरा करना हम सब की जिम्मेदारी है। हमने नेताजी के साथ बहुत काम किया है और उनसे बहुत कुछ सीखने को मिला है। नेताजी को सिर्फ राजनीति के स्तर से ही नही बल्कि अच्छे पहलवान के तौर पर भी जाना जाता था। महोत्सव पंडाल में श्रद्धांजलि सभा के कार्यक्रम से पहले नेताजी के समाधि स्थल पर सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के पैरामेडिकल स्टूडेंट एवं पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शांति यज्ञ का आयोजन किया था। जहां पूर्व मंत्री एवं विधायक शिवपाल सिंह यादव ने सुबह सबसे पहले पहुंचकर शांति यज्ञ में आहुति डाली थी। उसके बाद नेताजी के समाधि पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी थी।

करीब 12 बजे श्री अखिलेश यादव अपने चचेरे भाई पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव एवं पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नंदा के साथ समाधि स्थल पर पहुंचे जहां उन्होंने नेताजी मुलायम सिंह यादव के समाधि स्थल पर माल्यार्पण किया और पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी और हाथ जोड़कर प्रणाम किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.