साल 2024 इतिहास में सबसे गर्म रहा जून, पुराने रेकॉर्ड टूटे, आखिर किस ओर जा रही दुनिया?

0 41

नई दिल्ली: जलवायु परिवर्तन का असर पूरी दुनिया पर पड़ता दिखाई दे रहा है। कहीं गर्मी तो कहीं बारिश का तांडव देखा जा सकता है। तापमान ने तो सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। इस गर्मी में पारा भारत में अब तक 50 डिग्री के पार जा चुका है। इस बीच, यूरोपीय संघ (ईयू) की जलवायु एजेंसी कोपरनिकस क्लाइमेट चेंज सर्विस (सी3एस) ने बताया कि पिछले महीने पांच महाद्वीपों में लाखों लोगों को चिलचिलाती गर्मी का सामना करना पड़ा। साथ ही इस बात की पुष्टि की कि जून अब तक का सबसे गर्म महीना था।

1.5 डिग्री की लिमिट को पार करने के करीब
दुनिया बड़े पैमाने पर जलवायु परिवर्तन के संकट को टालने के लिए विशेषज्ञों द्वारा निर्धारित 1.5 डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार करने के कगार पर खड़ी है। जून इस तय सीमा के करीब पहुंचने का लगातार 12वां महीना है। सी3एस के वैज्ञानिकों के मुताबिक, पिछले साल जून के बाद से हर महीना रिकॉर्ड पर सबसे गर्म महीना रहा है।

जनवरी भी अब तक की सबसे गर्म
गौरतलब है, इस साल जनवरी में बढ़ता तापमान औद्योगिक काल (1850 से 1900) से पहले की तुलना में 1.66 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहा था, जो इसे अब तक की सबसे गर्म जनवरी बनाता है। बता दें कि कोपरनिकस क्लाइमेट चेंज सर्विस यूरोपियन यूनियन के अर्थ ऑब्जरवेशन प्रोग्राम का हिस्सा है। जनवरी 2024 के दौरान सतह के पास हवा का औसत वैश्विक तापमान 13.14 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था, जो 1991 से 2020 के दरमियान जनवरी माह में दर्ज औसत तापमान से करीब 0.7 डिग्री सेल्सियस ज्यादा है।

रिकॉर्ड तोड़ने वाली गर्मी सिर्फ़ ज़मीन तक ही सीमित नहीं है। जून 2024 में समुद्री सतह का तापमान भी अब तक का सबसे ज़्यादा दर्ज किया गया। नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) ने बताया कि वैश्विक महासागर सतह तापमान विसंगति उनके जलवायु रिकॉर्ड में सबसे ज़्यादा थी, जिसने ध्रुवीय बर्फ़ पिघलने की ख़तरनाक दर में योगदान दिया। अंटार्कटिक समुद्री बर्फ़ कवरेज ऐतिहासिक रूप से कम हो गई है, जो वैश्विक समुद्री स्तरों और पारिस्थितिकी तंत्रों के लिए गंभीर निहितार्थ पैदा करने वाली प्रवृत्ति को जारी रखती है। समुद्री बर्फ़ में गिरावट, जलवायु परिवर्तन के बढ़ते प्रभावों का एक स्पष्ट संकेतक है। ग्लोबल वार्मिंगजिससे मौसम का मिजाज और समुद्री जीवन प्रभावित हो रहा है।

अभूतपूर्व तापमान ने वैश्विक नेताओं और पर्यावरण संगठनों के बीच कार्रवाई के लिए नए सिरे से आह्वान किया है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने आगे के नुकसान को कम करने के लिए मजबूत जलवायु नीतियों की तत्काल आवश्यकता पर जोर दिया। वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अल नीनो की स्थिति के बने रहने से आने वाले महीनों में उच्च तापमान बना रह सकता है, जिससे संभवतः 2024 रिकॉर्ड पर सबसे गर्म वर्षों में से एक बन सकता है।

चल रहे गर्मी की लहर संयुक्त राज्य अमेरिका से लेकर दक्षिणी यूरोप और चीन तक महाद्वीपों में मौसम संबंधी गंभीर घटनाओं पर एक अध्ययन से यह पता चलता है कि किस प्रकार गंभीर मौसम संबंधी घटनाएं लगातार और तीव्र होती जा रही हैं तथा जलवायु परिवर्तन के परिणामस्वरूप अब उनकी संभावना 50 गुना अधिक हो गई है।

कुल मिलाकर, जून का महीना इतिहास में सबसे गर्म महीना होने का रिकॉर्ड तोड़ता है, जो जलवायु परिवर्तन की बढ़ती गति और इसके व्यापक प्रभावों की एक स्पष्ट याद दिलाता है। जैसे-जैसे वैश्विक तापमान बढ़ता जा रहा है, प्रभावी जलवायु समाधानों की आवश्यकता और भी अधिक महत्वपूर्ण होती जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को रोकने और भविष्य की पीढ़ियों के लिए ग्रह की सुरक्षा के लिए संधारणीय प्रथाओं को लागू करने के प्रयासों को तेज करना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.