चार बच्चों की मां लिव-इन में रह रही थी, प्रेमी ने दी खौफनाक मौत की सजा

0 25

लिव-इन रिलेशनशिप में रह रही महिला की हत्या उसके प्रेमी ने ही की थी। पिछले चार सालों से मृतका कृष्णा अपने प्रेमी दीपक के साथ रह रही थी। हरिद्वार पुलिस ने बताया कि दीपक ने अवैध संबंध के शक के चलते कृष्णा की हत्या की थी। सीआईयू और रानीपुर पुलिस की संयुक्त टीम के हत्थे चढ़े आरोपी दीपक ने यह बात कबूली है। आरोपी को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।

सोमवार को जिला पुलिस कार्यालय रोशनाबाद में पत्रकारों से वार्ता में अजय सिंह ने बताया कि औद्योगिक इकाई में कार्यरत रही महिला कृष्णा निवासी कुरडीखेड़ा चाणचक बिहारीगढ़ जिला सहारनपुर यूपी हाल निवासी गांव ब्रम्हपुरी सिडकुल की उसी के ही प्रेमी दीपक ने हत्या कर दी थी।

महिला का शव गैस प्लांट चौकी के पीछे नाले में मिला था। सामने आया था कि महिला करीब चार साल से अपने चार बच्चों के साथ अपने ही गांव के रहने वाले दीपक के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रह रही थी महिला की बेटी की तरफ से इस संबंध में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था।

उन्होंने बताया कि फरार हुए आरोपी की तलाश में पुलिस टीमें वेस्ट यूपी, हरियाणा और पंजाब में छापेमारी कर रही थी। रविवार देर रात आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। एसएसपी ने बताया कि आरोपी ने पूछताछ में कबूला कि उसे शक था कि कृष्णा के किसी दूसरे युवक से अवैध संबंध हैं, इस बात को लेकर ही उसका विवाद उससे रोजाना हो रहा था।

विवाद के चलते ही महिला एक माह से उससे अलग रह रही थी। आरोप है कि घटना वाले दिन कृष्णा के साथ सरेराह विवाद करने के बाद आरोपी दीपक ने उसका सिर नाली में दबाकर हत्या कर दी थी। इस दौरान एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार सिंह, एसपी अपराध रेखा यादव, सीआईयू प्रभारी रणजीत सिंह तोमर मौजूद रहे।

सिम कार्ड के चलते गहराया शक
कृष्णा के पास से दीपक को एक सिम कार्ड मिला था, उसी दिन से ही दीपक के जेहन में संदेह पैदा हो गया था। सिम कार्ड को लेकर अक्सर दीपक का उससे विवाद होने लगा था। वह कृष्णा पर आरोप जड़ता था कि उसके संबंध किसी गैर मर्द से हैं। मृतका ने उसका मोबाइल फोन नंबर भी ब्लॉक कर दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Vnation के Facebook पेज को LikeTwitter पर Follow करना न भूलें...
Leave A Reply

Your email address will not be published.